ऑनलाइन शॉपिंग करना पड़ सकता है महंगा

Tech World

ऑनलाइन खरीदारी या पेमेंट करते हैं तो थोड़ा सतर्क हो जाइए। यह सुविधाजनक तो है मगर खतरनाक भी।
ऐसा न हो कि जिस वेब पेज पर आप अपने बैंक का डिटेल डाल रहे हों वह पूरी तरह से फर्जी हो। आपके द्वारा अपने बैंक खाते के संबंध में डाली जाने वाली सारी जानकारी कुछ सेकेंड में हैकर्स के पास पहुंच जाती है। जबतक आपकी कुछ समझ में आता, तब तक आपका एकाउंट खाली कर दिया जाता है।
अपना रहे नया तरीका:
दरअसल, साइबर अपराधी भी अब नया तरीका अपनाने लगे हैं। ग्राहकों को लूटने के लिए अब फर्जी वेबसाइट का सहारा ले रहे हैं। भारत में फिलहाल 50 से अधिक फर्जी वेबसाइट मौजूद हैं। जिनके जरिये पहले तो आपको शॉपिंग करने का प्रलोभन दिया जाता है उसके बाद आपके बैंक एकाउंट का डिटेल लेकर उसे हैक कर लिया जाता है। एसबीआइ से लेकर एचडीएफसी के ग्राहकों ने ऐसे मामलों की शिकायत की है। आरबीआइ के बैंकिंग लोकपाल के पास भी इस तरीके से हुए साइबर धोखाधड़ी के मामले पहुंचे हैं।

सिर्फ राजधानी रांची में 80 से भी अधिक मामले जनवरी से मार्च के बीच आए हैं। इनमें से कुछ मामले साइबर थाना भी पहुंच गए हैं। साइबर अपराधी हर दिन नई नई तकनीक अपना रहे हैं। ऐसे में आम लोगों को जागरूक होने की जरूरत है। बैंकिंग फ्राड के मामले सबसे अधिक इन दिनों आ रहे हैं। कई मामले बैंकिंग लोकपाल के पास भी गए हैं। ऑनलाइन धोखाधड़ी को पूरी तरह से रोकने के लिए बैंकों को भी दिशा निर्देश दिए गए हैं।
केस स्टडी
1. रातू रोड के संजीव शुक्ला मार्च में ऐसी ही धोखाधड़ी के शिकार हुए। उन्हे मेल के जरिए एक वेबसाइट से शॉपिंग करने का ऑफर आया। उन्होंने खरीदारी की, लेकिन पेमेंट फेल हो गया। कुछ देर बाद उनके मोबाइल पर एसएमएस आया कि एकाउंट से 30 हजार रुपये निकाल लिए गए हैं।
2. मोरहाबादी के आशीष ने भी एक वेबसाइट के जरिये रिचार्ज करने की कोशिश की। वेबसाइट उन्हें 100 के रिचार्ज पर 300 रुपये टॉकटाइम देने का वादा कर रहा था। उन्होंने पेमेंट तो करना चाहा, लेकिन ट्रांजेक्शन फेल हो गया। कुछ घंटों के अंदर ही उनके एकाउंट से 20 हजार रुपये गायब हो गए।
ऐसे बनाते हैं शिकार