किस तरह कम नींद लेना आपके लिए हो सकता है महंगा

स्वस्थ रहने के लिए इंसान को पर्याप्त नींद लेना आवश्यक ही नहीं बल्कि अनिवार्य है पर आधुनिक युग में लोग अपने आप में इस कदर व्यस्त रहते हैं कि न तो वो पर्याप्त नींद ले पाते हैं और न ही खाना-पीना कर पाते हैं। आपको जानकर ये आश्चर्य होगा लेकिन ये सच है कि अगर आप ढंग से नींद नहीं लेते हैं तो आपकी किडनी पर नाकारात्मक असर पड़ेगा। इतना ही नहीं वो जानलेवा भी साबित होगा।

नींद न लेने पर खराब हो सकती है किडनी

न्यूयॉर्क के वैज्ञानिकों ने अध्ययन में इस तथ्य को पाया है कि कम सोने की वजह से किडनी खराब होने की संभावना 20 फीसदी तक बढ़ जाती है। मुख्य शोधकर्ता इलिनोइस यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक के मुताबिक इंसान आधी-अधूरी नींद को लेकर क्रॉनिक किडनी डिजीज (सीकेडी) के खतरे को कई गुना बढ़ा देता है। नींद और किडनी खराब होने के बीच सीधा संबंध है। यह शोध सीकेडी के मरीजों में नींद की आदतों में सुधार के लिए एक नैदानिक परीक्षण की जरूरत क रेखांकित करता है। हालांकि सीकेडी से पीड़ित लोगों में नींद से जुड़ी विकृतियां आम बात है।
दो साल तक के शोध में आया नतीजा

रोज आठ घंटे की नींद से किडनी खराब होने का खतरा 20 फीसदी कम होता है। इस अध्ययन में सामान्य लोगों के साथ सीकेडी से पीड़ित 350 मरीजों को भी शामिल किया गया। प्रतिभागियों ने दो साल तक रात में औसतन 6.5 घंटे की नींद ली। इस दौरान 70 सीकेडी के मरीजों में किडनी की विफलता देखने को मिली और 48 व्यक्तियों की मौत हो गई। कम सोने वाले सामान्य लोगों में भी किडनी संबंधी परेशानियां बढ़ीं हैं।

फेफड़ों के कैंसर की बीमारी भी हो सकती है

शिकागो और बार्सिलोना यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि कम सोना और स्लीप एप्निया (सोते वक्त सांस लेने में तकलीफ) फेफड़ों के कैंसर को घातक बना देता है। स्लीप एप्निया से सोते वक्त शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है, जिसे एक्सोजोम की संख्या में इजाफा हो जाता है। एक्सोजोम श्वेत रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है जो कोशिकाओं के संचार को बाधित करता है। इससे कैंसर के लिए जिम्मेदार ट्यूमर बढ़ने लगते हैं और पूरे शरीर में फैल जाते हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.