क्या विश्व बैडमिंटन में भारत को पहला स्वर्ण मिल पायेगा

Sports

नई दिल्ली – भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने इस साल लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है और उम्मीद की जा रही है कि विश्व बैडमिंटन में भारत के पहले स्वर्ण का सपना इस बार पूरा हो सकता है. भारत ने विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के इतिहास में अपना एक रजत और चार कांस्य पदक जीते हैं. लेकिन उसके हाथ कोई स्वर्ण पदक नहीं लगा है. ग्लास्गो मे विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप के लिये भारत का लक्ष्य प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में पहली बार स्वर्ण पदक जीतना होगा.

टीम इस प्रकार है-

पुरुष एकल : किदाम्बी श्रीकांत, अजय जयराम, साई प्रणीत, समीर वर्मा

महिला एकल : पीवी सिंधू , सायना नेहवाल, ऋतुपर्ण दास, तन्वी लाड

पुरुष युगल : मनु अत्री और सुमित रेड्डी, सात्विक सैराज और चिराग शेट्टी, श्लोक रामचंद्रन और एम अर्जुन

महिला युगल : अश्विनी पोन्नप्पा और सिक्की रेड्डी , संजना संतोष और आरती सुनील , जे मेघना और पूर्वश्री राम

मिश्रित युगल : प्रणव चोपड़ा और सिक्की रेड्डी, सुमित रेड्डी और अश्विनी पोनप्पा, सात्विक सैराज और के मनीषा

कोच : पुलेला गोपीचंद, विमल कुमार, तान किम हेर, हैंडोयो मूल्यो, ज्वाला गुट्टा, प्रदन्या गादरे, हरियावान

सपोर्ट स्टाफ : अरविन्द निगम, सी किरण, जॉनसन (सभी फिजियो), श्रीनिवास राव (मालिशिया)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *