गरीब व्यक्तियों की मदद करके माता के दर्शन हो जाते है

Entertainment

महाराष्ट्र दिवस के मौके पर ‘ट्रांसफॉर्म महाराष्ट्र’ नाम के समारोह में आये अक्षय कुमार ने बताया “मैं हर 6 महीने में वैष्णो देवी के दर्शन करने के लिए जम्मू जाया करता था। हर बार के दर्शन में मेरा और स्टाफ का खर्चा दो से तीन लाख रुपया होता था। साथ ही आने जाने का खर्च और होटल रहने और खाने का खर्च अलग। एक दिन मुझे ख्याल आया कि इन तीन लाख रुपयों को मैं किसी जरूरतमंद को दे क्यों नहीं देता।

फिर मैं वैसे ही करने लगा और जिस व्यक्ति को मैं मदद करता मुझे उसमें ही माता वैष्णो देवी के दर्शन होंगे लगे। तब मुझे समझ में आ गया कि मुझे दर्शन करने के लिए जम्मू जाने की जरूरत नहीं है। “इस मौके पर अक्षय ने कहा कि भारतीय फिल्म इंडस्ट्री हमेशा समाज में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रयासरत रहती है। अक्षय कुमार ने कहा,”फिल्मों के माध्यम से समाज को विकसित करने का प्रयास जारी है।

हमारी फिल्मों के जरिये कई सारे अच्छे संदेश देने की कोशिश की गई है। फिल्म पिंक में एक कड़ा संदेश देने की कोशिश की गई कि ना बोलना सीखिए और बोलिए।अक्षय कुमार इन दिनों अपनी फिल्म ‘टॉयलेट- एक प्रेम कथा ‘ को लेकर बिज़ी है। ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरित फिल्म है जिसका निर्देशन श्री नारायण सिंह कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *