चमत्कारों से भरा हुआ है यह अनोखा मंदिर

OMG!

हमारे भारत देश में ऐसे कई स्थान है जो रहस्यों से भरे पड़े है उन्हीं रहस्यों में एक ऐसी जगह भी है जिसके सामनें विज्ञान के तथ्यों नें भी अपने घुटने टेक दिए है. जिसके बारे में यह पता लगा पाना मुश्किल हो गया कि इस होने वाले चमत्कार का कारण क्या है. इस मंदिर के चारों दिशाओं में एक-एक दरवाजे लगे रहने के बाद इसमें खंभों को भी बनाया गया है, पर इन खंभों की गिनती आज तक कोई नहीं कर पाया है, कि ये आखिर है कितने… बताया जाता है कि इस मंदिर में मौजूद बेशकीमती खजाना छिपा हुआ है.

इस मंदिर का दरवाजा आज से करीब 3 साल पहले खोला गया था तब इसमें से तो मंदिर कई हजार साल पुराने हीरे, जवाहारात, सोने, चांदी के आभूषण पाए गए थें. जिसकी आज के समय में कीमत अरबों रूपए की आंकी जाती है. महालक्ष्मी मंदिर में मिले काफी पुराने समय का यह सोना कोल्हापुर के कोंकण के राजाओं के द्वारा,चालुक्य राजाओं, आदिल शाह, शिवाजी और उनकी मां जीजाबाई तक के जरिए चढ़ावा गया था. जब इस मंदिर में मिले खजाने की गिनती करना शुरू हुई तो इसकी पूरी कीमत का अंदाजा लगाना काफी मुश्किल हो गया था. मंदिर के इस खजाने का बीमा भी कराया गया है. ये बीमा कितनी कीमत का है इसका बारे में मंदिर ट्रस्ट ने किसी भी प्रकार का खुलासा नहीं किया है. इससे पहले मंदिर के खजाने को साल 1962 में खोला गया था.

शिलालेख या पुरातत्वों से मिली जानकारी के अनुसार, 1800 साल पुराने इस मंदिर को राजा कर्णदेव के जरिए बनवाया गया था. धीरे-धीरे इस मंदिर के प्रसिद्ध होने के बाद इसमें और भी परिवर्तन किए गये. मंदिर के आंगन में करीब 35 छोटे-छोटे मंदिरों का निर्माण कराया गया. करीब 27 हजार वर्गफुट में फैला यह मंदिर 51 शक्तिपीठों में शुमार है. इस मंदिर में विराजमान महालक्ष्मी जी की मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा आदि गुरु शंकराचार्य के जरिए कराई गई थी. इस मंदिर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां पर बनाए गए खंभों को आज तक कोई नहीं गिन पाया है. जिसने भी इसे गिनने की कोशिश भी की है उसके साथ कोई अनहोनी घटना होने के बाद वो मारा गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *