बारिश के साथ ही यहाँ बरसने लगे हीरे

Advertisement

गर्मी में बारिश हो जाए तो के बात हो लेकिन सोचो की अगर बारिश पानी की जगह हीरों की होतो !! पढ़कर ऐसा लग रहा होगा की काश ऐसा हो जाए तो मेरी तो किस्मत ही चमक जाएगी बिलकुल हीरे के माफिक..लेकिन धरती पर शायद ये संभव नहीं,

लेकिन हम आपको बता दें कि डायंमड की बारिश होती है। दरअसल यूनिवर्स में मौजूद अन्य कुछ ग्रहों पर हीरों की बारिश हो रही है।ब्रह्माण्ड पर बहुत-सी ऐसी घटनाएं होती हैं जो हमारे दिमाग की समझ से बहुत दूर है। आपको शायद इस बात पर यकीन न हो, लेकिन जुपिटर (बृहस्पति ), सैटर्न (शनि) दो ऐसे ग्रह हैं जिन पर हीरों की बारिश होती है और इस बात की पुष्टि अब वैज्ञानिक भी कर चुके हैं। इस संबंध में लास वेगास से प्रकाशित होने वाले गार्जियंन्स एक्सप्रेस में खबर प्रकाशित हुई थी, जिसके अनुसार बृहस्पति और शनि ग्रह पर डायमंड की बारिश लगातार होती रहती है। अखबार ने यह खबर अमेरिकी वैज्ञानिकों की नई रिसर्च पर प्रकाशित की थी। यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कोनसिन-मेडिसन के केविन बैनेस और नासा के जेपीएल और कैलिफोर्निया स्पेशियल्टी इंजीनियरिंग जेपीएल की मोना डेलिस्स्की ने यह दावा किया है।

अमेरिकन एस्ट्रानॉमिकल सोसाइटी की वार्षिक मीटिंग में इन वैज्ञानिकों ने यह दावा किया था कि इन ग्रहों पर गरज, चमक और तूफान के साथ ओलावृष्टि मीथेन को कार्बन में बदल देते है, जो गिरने पर ठोस होकर ग्रेफाइट का रूप ले लेते हैं और फिर हीरे में बदल जाते हैं। अमेरिका के वैज्ञानिकों ने गणना की है कि इन ग्रहों पर चमकदार क्रिस्टल कम मात्रा में हैं जो बिजली और तूफान में नीचे की और गिर जाते हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि शनि और बृहस्पति के वातावरण में मीथेन शामिल है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि शनि ग्रह पर हर साल लगभग एक हजार टन ‘डायमंड’ का हिस्सा उत्पन्न हो सकता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.