यह कॉलेज भरा पड़ा है कई सुरंगो से

ग्वालियर शहर का हमेशा से ही एक दिलचस्प इतिहास रहा है. ब्रिटिश शासन के दौर में एक राजसी राज्य होने के नाते, ग्वालियर की ज़्यादातर वास्तुकला विरासत राजाओं के समय से ताल्लुक रखती है. इसी तर्ज पर जो नई बात सामने आई है, उसका ताल्लुक भी राजसी घरानों से लगाया जा रहा है. कमला राजा गर्ल्स कॉलेज की इमारत के तहखाने में कई सुरंगों का जाल बिछा हुआ है, जिसके बारे में ज़्यादातर लोगों को जानकारी नहीं है. 1984-85 में रियासत से संबंधित फाइलों को हटाने के दौरान इन सुरंगों के बारे में पता चला. जब वहां से फाइल्स को हटाया जा रहा था, तब अचानक से वहां मौजूद पटिया सरक गई. तब लोगों ने पाया कि गुप्त सीढ़ियां सुरंग की ओर जा रही है. उस सुरंग के अंदर मौजूद गर्म हवा को बाहर निकालने के लिए सबसे पहले वहां पूरी रात एक एग्जॉस्ट फैन लगवाया गया ताकि अंदर जाया जा सके.

इसके बाद जब अंदर प्रवेश किया गया तब वहां मौजूद लोग भौचक्के रह गए. सुरंग के अंदर एक बड़े कमरे में तोपें रखी हुई थीं. तोपों का आकार इस बात की ओर इशारा कर रहे थे कि इन्हें ऊपर सीढ़ियों के जरिए नहीं लाया जा सकता.बाद में जब इस बात की जड़ तक जाने का प्रयास किया गया तब सामने आया कि यह कमरा और अन्य सुरंगों से जुड़ा हुआ है. खबरों के मुताबिक केआरजी इमारत में कुल तीन सुरंगें मिली. इनमें से एक सुरंग गोरखी, दूसरी जयविलास पैलेस और तीसरी सुरंग परिवहन कार्यालय तक जाती है.

यह तीनों ही सुरंगें केआरजी कॉलेज के पीछे के हिस्से में बनी हुई हैं. यहां से मिली तोपों को नगर पालिका के संग्रहालय के बाहर रखा गया है. अभी तक कोई भी यह अनुमान नहीं लगा पाया है कि यह तोपें कितनी पुरानी हैं और इनका इतिहास क्या है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.