रिज्यूम बनाते समय हमेशा रखें इन बातों का ध्यान

नौकरी हासिल करने की पूरी प्रक्रिया में रिज्यूमे एक ऐसा हिस्सा है, जिससे आपके पूरे व्यक्तित्व, कौशल, अनुभव और लक्ष्य के बारे में स्पष्ट हो जाता है. अगर आप किसी कंपनी में नौकरी खोजने के लिए जा रहे हैं तो आपके पास एक शानदार रिज्यूमे होना चाहिए. खराब रिज्यूमे से आपका पहला प्रभाव ही बिगड़ सकता है. नौकरी मिलने के लिए जितनी महत्तवपूर्ण आपकी डिग्री होती है उतना ही जरूरी आपका रिज्यूमे भी होता है. हम आज आपको बता रहे है आपको फाइनल रिज्यूमे आगे भेजने से पहले इसमें क्या शामिल करना चाहिए और क्या नहीं.

* एक अच्छा रेज्यूमे अच्छी फोर्मैटिंग के बिना अधूरा है, रेज्यूमे की फोर्मैटिंग आपकी कंप्यूटर स्किल को दर्शाती है, वो यह दर्शाती है की आपकी प्रेजेंटेशन स्किल कितनी अच्छी या बुरी है. इसलिए रेज्यूमे एक अच्छे फॉर्मेट में बना होना चाहिए.
* एक्सपीरियंस, क्वालिफिकेशन और स्किल को अपने रिज्यूमे में खास स्थान दें. अगर आपके रिज्यूमे में उपरोक्त तीन बातों के ऊपर स्पष्टता से नहीं लिखा है तो वह एक पेपर से ज्यादा कुछ भी नहीं है.
* किसी भी रिज्यूमे में सबसे पहले अपना मकसद लिखा जाता है.
* कुछ लोग अपने रिज्यूमे में बचपन से लेकर जवानी तक के किये गए काम के बारे में लिख देते हैं, जिनका कई जगहों पर कोई मतलब नहीं होता है.
* कंपनी वाला आपको काम करने के लिए रखता है, ना कि आपकी हॉबी जानने के लिए. ऐसे में अपनी हॉबी के बारे में अपने रिज्यूमे में ना लिखें.
* रिज्यूमे में छोटे फॉण्ट का प्रयोग ना करें.
* आमतौर पर कई लोग अपनी जान पहचान को आधार बनाकर नौकरी के लिए इंटरव्यू देने पहुंच जाते हैं. लेकिन ऐसे लोगों का कंपनी में गलत प्रभाव पड़ता है, इसलिए अगर आपकी कंपनी में पहुंच है तब भी आप एचआर डिपार्टमेंट की तरफ से बुलाए जाने का इंतजार करें.
* रिज्यूमे बनाते समय इस बात का ख़ास तौर पर ध्यान रखें कि उसमें अपने धर्म के बारे में या अपने सोशल सिक्यूरिटी नंबर के बारे में कुछ भी ना लिखें. यह सब जानकारी किसी भी कंपनी के लिए कोई मायने नहीं रखती हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.