लौंग रोगो के लिए होता है रामबाण, जानिए कैसे ?

लौंग भोजन का स्‍वाद बढ़ाने के साथ ही आयुर्वेदिक औषधि का भी काम करती है। आकार में छोटी दिखाई देने वाली लौंग को मसालों के अलावा भी कई तरह से इस्‍तेमाल किया जा सकता है। सर्दी-जुकाम जैसी साधारण परेशानियों से लेकर कैंसर जैसे गंभीर रोग के इलाज में भी इसको प्रयोग किया जाता है।
लौंग के प्रकार
लौंग के दो प्रकार की होते हैं, पहली तेज सुगंध वाली और दूसरी नीले रंग की। नीले रंग की लौंग का तेल मशीनों से निकाला जाता है। इस तेल की महक तेज होती है और स्वाद में यह साधारण लौंग से तीखी होती है। लौंग के तेल को औषधि के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। इसका तेल त्वचा पर लगाने से कीड़े मर जाते हैं और दांत में लगाने से दांत दर्द में आराम मिलता है।
लौंग के फायदे
जिस लौंग से तेल निकाल लिया जाता है, वह ज्यादा फायदेमंद होती है।
लौंग दर्दनाशक होने के साथ ही कफ-पित्त नाशक भी होती है।
मितली आने और प्यास लगने पर लौंग का सेवन करना चाहिए।
पाचन क्रिया को भी सीधी सीधी प्रभावित करती है लौंग।
लौंग के सेवन से भूख बढ़ती है, इससे पाचक रसों का स्राव बढ़ता है।
यदि पेट में कीड़े हैं तो खाने में लौंग का सेवन राहत देता है।
लौंग को पीसकर मिश्री की चाशनी या शहद के साथ लेना भी लाभकारी है।
लौंग खाने से शरीर में श्‍वेत रक्‍त कण बढ़ते हैं, जिससे शरीर मजबूत होता है।
दमा रोग के इलाज में भी लौंग बहुत फायदेमंद है।

बीमारियों में लौंग के फायदे
किसी भी प्रकार की त्वचा संबंधी समस्‍या होने पर लौंग का प्रयोग किया जा सकता है। त्वचा रोग होने पर चंदन के बूरे के साथ लौंग का लेप लगाने से फायदा होता है।
पेट में गैस होने पर एक कप उबलते हुए पानी में दो लौंग पीसकर डालें। उसके बाद पानी ठंडा होने के बाद पी लीजिए, पेट की गैस खत्‍म हो जाएगी।
दांतों में दर्द होने पर नींबू के रस में दो से तीन लौंग को घिसकर लगा लीजिए, दांत दर्द में राहत मिलेगी।
लौंग को हल्का भूनकर चबाने से मुंह की दुर्गंध खत्‍म हो जाती है।
मुंह में छाले होने पर लौंग चबाने से फायदा होता है।
लौंग पीसकर गर्म पानी के साथ खाने से जुकाम और बुखार ठीक होता है।
गर्दन में दर्द या फिर गले में सूजन होने पर लौंग को सरसों के तेल के साथ मालिश करने पर दर्द खत्‍म हो जाता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.