सुप्रीम-कोर्ट पहुंचा इंदु सरकार का मामला

Entertainment

जी हाँ बता दे कि, मधुर भंडारकर की विवादित फिल्म हम बात कर रहे है ‘इंदु सरकार’ के बारे में जिस पर की पूर्व में सेंसर ने भी कांटछाटी की थी. दरअसल इमरजेंसी के इर्द गिर्द बनी निर्देशक मधुर भंडारकर की फ़िल्म ‘इंदु सरकार’ को लेकर कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने पिछले दिनों अराजकता की है. उन्हें कई कार्यक्रम भी रद्द करने पड़े. इन घटनाओं के बाद से ही इमरजेंसी, राजनीति और फ़िल्मों को लेकर सवाल मन में घूम रहे हैं.

जी हाँ बता दे कि, निर्देशक मधुर भंडारकर की फिल्म ‘इंदु सरकार’ को भारतीय केंद्रीय फिल्म एवं प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) समिति ने 14 कट लगाने को कहा है, जिसके बाद वह सकते में हैं. देखा जाए तो जिस प्रकार से देखा जाए तो पूर्व में मधुर भंडारकर की फिल्म इंदु सरकार पर राजनीती शुरू हो गई है व जिसके कारण हमारे फिल्म निर्देशक काफी दुखी व आहत है. अब यह भी सुनने में आया है कि मधुर की इंदु की गूंज भारत की सर्वोच्च न्यायप्रणालिका तंत्र सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंची है.

जी हां फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर ने केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) की समीक्षा समिति से फिल्म ‘इंदु सरकार’ को मंजूरी दिए जाने के ठीक बाद यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. इस मामले में ‘इंदु सरकार’ के निर्देशक मधुर भंडारकर के वकील ने भी कहा कि संजय गांधी की बायोलॉजिकल डॉटर बताने वाली प्रिया पॉल, संजय गांधी के साथ किसी रिश्ते को लेकर कोर्ट में कोई ठोस सबूत पेश नहीं कर पाई हैं. प्रियंका पॉल को इस बात पर आपत्ति रही कि मधुर ने फिल्म में जो 30 प्रतिशत सीन्स वास्तविक बताएं हैं, उन्हें पहचान कर फिल्म से हटा दिए जाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *