सेंसर बोर्ड है खूंखार डायनासोर, विवेक

Advertisement

 

बॉलीवुड का चर्चित अभिनेता बोले तो अभिनेता विवेक ओबरॉय जो के आज भी बॉलीवुड की फिल्मो में खासा व्यस्त चल रहे है. बॉलीवुड अभिनेता विवेक ओबरॉय ने बॉलीवुड की अनगिनत सफलतम फिल्मो में अपने दमदार अभिनय की छाप को छोड़ा है. विवेक ओबरॉय के पिता का नाम सुरेश ओबरॉय हैं-जो कि बॉलीवुड के वेटरन अभिनेता हैं. अभी हाल ही में अपने एक बयान में विवेक ओबरॉय ने कहा है कि, देश की 125 करोड़ जनता में सिर्फ 2.5 करोड़ लोग थियेटर में जाकर फिल्म देखते हैं. वहीं मोबाइल और सोशल मीडिया के सहारे 50 से 60 करोड़ लोगों तक पहुंच बन रही है. एक्टर तनुज विरवानी ने कहा कि डिजिटल मीडियम टेलीविजन और थियेटर से अलग इसलिए भी हैं क्योंकि डिजिटल मीडियम में कलाकार और दर्शक के बीच कोई नहीं है. यहां दर्शक किसी वेब सीरीज को देखने के लिए इतना बेसब्र रहता है कि वह एक बार में 8-10 एपीसोड की सीरीज देख लेता है. तनुज का मानना है कि वेब सीरीज में काम करना एक कलाकार के लिए फिल्म और टेलिविजन के मुकाबले ज्यादा अच्छा है. विवेक ओबरॉय ने कहा कि डिजिटल का सबसे बड़ा फायदा है कि यहां बन रहे प्रोग्राम्स को सेंसर बोर्ड का सामना नहीं करना पड़ता. विवेक ने दरअसल मौजूदा समय की फिल्ममेकिंग में सेंसर बोर्ड की कोई भूमिका नहीं है. विवेक ने कहा कि डिजिटल की दुनिया में सेंसर बोर्ड डायनासोर हैं. बस उन्हें फिल्मों में भी खत्म करने की जरूरत है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.