हिंदी बोलने वालों को लोग कूल नहीं कहते : अर्जुन

Entertainment

अर्जुन कपूर अपनी आने वाली फिल्म हाफ गर्लफ्रेंड में दिल्ली के एक इंग्लिश मीडियम कॉलेज में दाखिला लेने जाते हैं और वहां वे अंग्रेजी में बात नहीं कर पाते हैं तो उनका मज़ाक बनाया जाता है. अर्जुन ने माना है कि हिंदी बोलने वालों को कूल नहीं समझा जाता.फिल्म हाफ गर्लफ्रेंड के ट्रेलर लॉन्च के दौरान जब अर्जुन से रियल लाइफ में उनके अनुभव पूछे गए, तो उन्होंने स्वीकारा कि हां यह सच है कि हिंदी बोलने वालों को लोग कूल नहीं कहते.

अंग्रेजी का पलड़ा हमेशा भारी रहता है. अर्जुन ने यह भी कहा कि कॉलेज का हिंदी-इंग्लिश वाला सीन फिल्म की ओपनिंग है, जहां माधव झा अपने अंदाज़ में हिंदी बोल कर ही प्रोफेसर्स को इम्प्रेस करता है और उन्हें बताता है कि उसे इंग्लिश बोलना नहीं आता, लेकिन किसी इंग्लिश वाले से वह अधिक दिमाग रखता है और फिर माधव को एडमिशन मिल जाता है. अर्जुन बताते हैं कि वो लकी हैं कि उनकी हिंदी और अंग्रेजी दोनों पर कमांड हैं और वे अपने ग्रैंड पेरेंट्स से हमेशा हिंदी में ही बातचीत करते थे.

लेकिन वो मानते हैं कि इंग्लिश बोलना हमारे देश में फैशन है और हिंदी बोलने वालों को आउट-डेटेड माना जाता है. इस फिल्म में हमने ये बात भी दर्शाने की कोशिश की है कि भाषा वैसी हो कि समझ आ जाये.अर्जुन ने स्वीकारा कि कई बार खुद हिंदी बोलने वाले लोग भी इंग्लिश में बातें शुरू कर देते हैं, ताकि उन्हें कूल समझा जाए. अर्जुन आगे कहते हैं कि यह सब आपके दिमाग में डाल दिया गया है कि अगर आप इंग्लिश नहीं जानते तो आपका कुछ नहीं हो सकता. लेकिन हिंदी हमारी भाषा है और मुझे ख़ुशी है कि इस फिल्म के माध्यम से हम इस भाषा को लेकर चर्चा कर रहे हैं.इसी दौरान चेतन भगत ने बताया कि उन्होंने एक सर्वे करवाया था, जिसमें अधिकतर लड़कियों से यही जवाब आया था कि जो अंग्रेजी नहीं बोलते, वे उन्हें अपना बॉयफ्रेंड बनाना नहीं चाहेंगी.