Airtel ने 2 सालों में मोबाइल साइट को दोगुना किया

एक मोबाइल साइट में एंटीना और इलेक्ट्रानिक उपकरण शामिल होते हैं। एक मोबाइल टॉवर में तीन साइटें हो सकती हैं। यह विस्तार कंपनी के लीप प्रोजेक्ट कार्यक्रम का हिस्सा है। इसे नवंबर 2015 में शुरू किया गया था।

भारती एयरटेल ने बीते दो सालों में अपने मोबाइल नेटवर्क को दोगुना कर 180,000 साइट्स तक पहुंचा दिया है। यह भविष्य की नेटवर्क तैयारी के उद्देश्य से किया गया है। कंपनी ने एक बयान में कहा, “बीते दो सालों (2015-16 और 2016-17) में एयरटेल ने पूरे भारत में 180,000 मोबाइल साइट्स का विस्तार किया है। यह ठीक उसी तरह है जिस तरह कंपनी पहले 20 सालों में संचालन के दौरान टॉवरों का विस्तार किया। यह इसे विश्वस्तर पर एक बड़ा मोबाइल नेटवर्क बनाता है।”

एक मोबाइल साइट में एंटीना और इलेक्ट्रानिक उपकरण शामिल होते हैं। एक मोबाइल टॉवर में तीन साइटें हो सकती हैं। यह विस्तार कंपनी के लीप प्रोजेक्ट कार्यक्रम का हिस्सा है। इसे नवंबर 2015 में शुरू किया गया था। प्रोजेक्ट लीप कंपनी का नेटवर्क परिवर्तन कार्यक्रम है। इसमें कंपनी की 60,000 करोड़ रुपये निवेश की प्रतिबद्धता है।

गौरतलब ही कि दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल ने शुक्रवार को कश्मीर घाटी के 22 कस्बों में 4जी सेवा शुरू की। कंपनी के एक प्रवक्ता ने यहां कहा, ‘कश्मीर घाटी के ग्राहक अब 4जी सेवा का आनंद उठा सकते हैं। एयरटेल 4जी से ग्राहकों को बिना रूकावट हाई डेफिनेशन वीडियो, तेज अपलोडिंग और डाउनलोडिंग की सुविधा मिलेगी। यह सेवाएं उन्हें 3जी के दामों पर उपलब्ध होंगी।’ उन्होंने कहा कि ग्राहक अपने आप को 4जी सिम के लिए मुफ्त में अपडेट कर सकते हैं।

जम्मू-कश्मीर के मुख्य परिचालन अधिकारी रवींद्र देसाई ने कहा कि हमें कश्मीर में इस सेवा की शुरूआत करते हुए हमें खुशी हो रही है। इन 22 कस्बों के साथ अब राज्य के कुल 61 कस्बों में 4जी सेवा उपलब्ध होगी।

बता दें कि एयरटेल जम्मू और कश्मीर में मौजूद सबसे बड़ी टेलीकॉम ऑपरेटर कंपनी है। यहां एयरटेल के पास 3.47 मिलियन ग्राहक है। अभी तक वहां सिर्फ 3G/2G सर्विस ही मौजूद थी। गौरतलब है कि जम्मू और कश्मीर में वर्तमान में 4G सर्विस उपलब्ध हैं- जिनमें जम्मू, अखनूर, नागराटा, कठुआ, कटरा, सांबा, उधमपुर, रियासी, रेहंबल, बारि ब्राह्मण, बिलवार, घुमानहसन, मीरान साहिब, मिस्रीवाला, रायपुर डोमाना, बाशोली, हिरानगर, राजौरी, सुंदरबानी, थानमंडी, ज्योतिपुरम, तलवारा, बदलीराख, गारनई और वैष्णो देवी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.