पटना रैली में एक मंच पर नजर आएंगे अखिलेश-मायावती

उत्तर प्रदेश के हाल में हुए विधानसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद बदली सूरतेहाल में समाजवादी पार्टी (एसपी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) अगस्त में पटना में होने वाली राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव की रैली में एक साथ एक मंच पर नजर आनेवाले हैं. आरजेडी की यूपी इकाई के अध्यक्ष अशोक सिंह ने बुधवार को बताया कि एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव और बीएसपी मुखिया मायावती ने आगामी 27 अगस्त को पटना में आयोजित होने वाली लालू की रैली में शिरकत पर रजामंदी दे दी है.

आरजेडी प्रमुख लालू ने इन दोनों नेताओं को इस रैली में शामिल होने के लिए फोन भी किया था. अशोक सिंह ने बताया कि एसपी संस्थापक मुलायम सिंह यादव को भी रैली में लाने की कोशिशें की जा रही हैं. साल 1993 में प्रदेश में मिलकर सरकार बनाने वाली एसपी और बीएसपी के बीच दूरियां चर्चित ‘गेस्ट हाउस कांड’ के बाद इस कदर बढ़ गई थीं कि उन्हें एक नदी के दो किनारों की संज्ञा दी जाने लगी. माना जाने लगा कि अब ये दोनों दल एक-दूसरे से कभी हाथ नहीं मिलाएंगे. लेकिन अब इसे सियासी तकाजा कहें, या फिर समय का फेर, इन दोनों दलों के नेता अब मंच साझा करने को तैयार हो गए हैं.

एसपी और बीएसपी के एक मंच पर साथ आने को राजनीति के एक नए दौर के उभार के रूप में देखा जा रहा है. खासकर साल 2014 के लोकसभा चुनाव और 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के हाथों करारी शिकस्त ने इन दोनों दलों को साथ आने के बारे में सोचने पर मजबूर किया है. अशोक सिंह ने बताया कि अगस्त में होने वाली रैली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के भी शिरकत करने की संभावना है.

उन्होंने बताया कि आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी, बीजू जनता दल के प्रमुख नवीन पटनायक, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी मुखिया शरद पवार और समान विचारधारा वाले अन्य दलों के नेताओं को भी रैली में आमंत्रित किया है. डीएमके नेता एमके स्टालिन इस रैली में हिस्सा लेने के लिए पहले ही रजामंदी दे चुके हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.