भूख लगने पर खुद को ही खा जाता है यह लड़का

कभी सुना है आपने की किसी को इतनी भूख लगती हो की वो अपने आप को खा जाए। शायद नहीं लेकिन यह लड़का जिसका नाम गीजर बक्सटन है, उम्र तीन साल। इसके ऊपर 24 घंटे पहरा रहता है। उसकी शैतानी को लेकर नहीं बल्कि उसकी बीमारी के लिए। डॉक्टर्स को लगता है यदि उसे अकेला छोड़ दिया तो हो सकता है कि वह खुद को ही खा जाए।

दरअसल गीजर प्रेडर-विली सिंड्रोम से पीड़ित है। यह एक तरह की जेनेटिक गड़बड़ी है जिसकी वजह से व्यक्ति को पूरे समय भूख लगती रहती है। और इस हद तक कि यदि कुछ खाने को न मिले तो वह खुद को खाना शुरू कर देता है। इससे मौत भी हो सकती है। ऐसा ही कुछ गीजर के साथ भी है वह खाना तो शुरू करता है लेकिन कब रुकना है यह तय नहीं कर पाता।

उसे ऐसा करने से रोकने के लिए मां मिशेल और पापा क्रेग रसोई की अलमारियों पर ताला लगाकर रखते हैं साथ ही हर हफ्ते उसे शॉपिंग पर ले जाते हैं जिस पर 200 पाउंड (लगभग 20371 रु.) खर्चा होता है। लेकिन उसे व्यस्त रखने और खाने से उसका ध्यान हटाने का यही एक तरीका है। यह बीमारी होने पर लगातार भूख लगती है और छह साल के होने तक इसके लक्षण दिखने लगते हैं। जब गीजर तीन सप्ताह का था तब डॉक्टर्स ने पाया था कि वह और बच्चों जैसा सक्रिय नहीं है साथ ही भावशून्य भी। तभी इस बीमारी का पता चला। स्टेफोर्डशायर के चेस्टर्टन में रहने वाले माता-पिता बताते हैं कि उसकी भूख हमारे लिए सतत् संघर्ष के समान है। उनके तीन बच्चे स्टॉर्म, मार्ले और हेंड्रिक्स और हैं लेकिन सब ठीक हैं।

कई बार तो गीजर खाने लिए के देर तक रोता है, हम उसका ध्यान बंटाते हैं और बहलाते हैं। लेकिन उसे समझाना मुश्किल होता है कि इतनी कम उम्र में इतना ज्यादा खाना उसके लिए ठीक नहीं है। फिलहाल उसे हर दिन 1100 कैलोरी की तय मात्रा दी जा रही है। हर महीने उसका वजन करवाया जाता है। उसके इलाज पर 4 लाख से ज्यादा खर्च हो चुके हैं। इस तरह के मामले ब्रिटेन में 15 हजार में से एक बच्चे में देखने को मिलते हैं। प्रेडर विली सिंड्रोम एसो. यूके के प्रमुख बताते हैं ‘80 के दशक तक उम्मीद जताई जाती थी कि व्यक्ति 20-30 वर्ष तक जी सकेगा, अब हम ऐसा कोई भी दावा नहीं कर सकते।’

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.