भारत ऐसी मिसाइल बना रहा है जो पूरे चीन को निशाना बना सकती हैं : अमेरिकी परमाणु विशेषज्ञ

Indian soldiers stand beside India's surface-to-surface missile "Prithvi" during the Republic Day parade in New Delhi January 26, 2006. Prithvi, which means earth in Sanskrit, is a nuclear-capable missile. India celebrated its 57th Republic Day on Thursday. REUTERS/Kamal Kishore - RTR18ZHZ

भारत चीन को ध्यान में रखते हुए अपने परमाणु हथियारों और देश की परमाणु रणनीति का लगातार आधुनिकीकरण कर रहा है पहले इसका ध्यान पाकिस्तान पर केन्द्रित था लेकिन अब माना जा रहा है कि इसका जोर चीन की ओर ज्यादा है. अमेरिका के दो वरिष्ठ परमाणु विशेषज्ञों ने यह बातें कही. एक पत्रिका ‘आफटर मिडनाइट’ के जुलाई अगस्त के अंक में छपे इस लेख में यह भी दावा किया गया है कि भारत अब एक ऐसी मिसाइल बना रहा है जो कि दक्षिण भारत के अपने बेस से पूरे चीन को निशाना बना सकती हैं.

‘इंडियन न्यूक्यिर फोर्स 2017’ शीर्षक वाले अपने लेख में हॉन्स एम क्रिस्टेंसेन और रॉबर्ट एस नोरिस ने लिखा है, भारत 150 से 200 परमाणु हथियार बनाने के लिए पर्याप्त प्लूटोनियम बढ़ोत्तरी कर चुका है, लेकिन उसने 120 से 130 परमाणु हथियारों का ही निर्माण किया है. इन दोनों ही विशेषज्ञों ने दावा किया है कि परंपरागत रूप से पाकिस्तान पर आधारित भारत की परमाणु रणनीति में अब चीन पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है.

भारत का ध्यान पारंपरिक रूप से पाकिस्तान से अपनी सुरक्षा के लिए परमाणु हथियार विकसित करने पर रहा है, लेकिन उसका परमाणु आधुनिकीकरण इसका संकेत है कि वह चीन के साथ भविष्य के सामरिक संबंधों पर ज्यादा ध्यान दे रहा है. उनका अनुमान है कि भारत के पास सात परमाणु सक्षम प्रणाली हैं. इनमें दो विमान, जमीन से संचालित होने वाली चार बैलेस्टिक मिसाइल और समुद्र से मार करने में सक्षम एक बैलेस्टिक मिसाइल हैं. कम से कम चार और प्रणालियों पर काम चल रहा है. उन्हें तेजी से विकसित किया जा रहा है. उनके अलगे दशक तक तैनात होने की संभावना है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.