जम्मू-कश्मीर पर्यटन विभाग का अभियान

जम्मू -कश्मीर के पर्यटन विभाग ने क्षेत्र की सफलता की कहानियों को रेखांकित करने के लिए अभियान शुरू किया है ताकि अक्सर अशांति और आतंकवादी हिंसा को लेकर खबरों में रहने के कारण राज्य के बारे में नकारात्मक धारा का मुकाबला किया जा सके। मीडिया में नकारात्मक धारा का मुकाबला करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा रहा है।

जम्मू कश्मीर पर्यटन विभाग के निदेशक महमूद अहमद शाह ने स्वीकार किया कि हालिया अशांति के कारण पर्यटकों की संख्या में कमी आयी है। हालांकि उन्होंने कहा कि समस्या कुछ एक जिलों तक ही सीमित है और शेष राज्य छुट्टियां बिताने वालों के लिए सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा, मैं स्वीकार करता हूं कि घाटी में समस्या है लेकिन उस हद तक नहीं जैसा (मीडिया) में दिखाया जा रहा है।

राज्य में 22 जिले हैं और मौजूदा समस्या सिर्फ तीन जिलों तक सीमित है। शाह स्थानीय एनजीओ सरहद के आमंत्रण पर यहां आए थे और उन्होंने कहा कि राज्य में पर्यटन उद्योग राजस्व और रोजगार का एक प्रमुख स्रोत है तथा यह पिछले साल जुलाई में हिजबुल मुजाहिद्दीन आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद काफी प्रभावित हुआ था। शाह ने कहा कि राज्य में चीजें सुधर रही थीं लेकिन श्रीनगर लोकसभा सीट के लिए हालिया उपचुनाव के दौरान हिंसा होने के बाद पर्यटन गतिविधियां एक बार फिर बाधित हो गईं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.