यूपी में दलितों ने त्यागा हिन्दू धर्म

Society

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जनपद में शनिवार को ‘भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज’ के लोगो ने भाजपा सरकार पर दलित विरोधी होने का आरोप लगाते हुए हिन्दू धर्म त्याग दिया और घरों में रखी भगवान की मूर्तियों को रामगंगा नदी में प्रवाहित किया. वाल्मीकि समाज के लोगों ने दलितों पर हुए हमले के लिए भाजपा नेताओं को जिम्मेदार ठहराते हुए एक रैली भी निकाली. इस दौरान लोगों ने भाजपा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की.

वाल्मीकि समाज के लोगों को हिन्दू धर्म छोड़ने से रोकने के किये बजरंग दल के कार्यकर्ता भी पहुंचे थे. लेकिन वाल्मीकि समाज के लोग लगातार सरकार पर उपेक्षा और उत्पीड़न का आरोप लगाते रहे. इस दौरान भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज के राष्ट्रीय मुख्य संचालक लल्ला बाबू द्रविड़ ने सरकार की नीतियों पर जमकर हमला बोला और वर्तमान सरकार को वाल्मीकि समाज के लोगों पर फायरिंग और हमला करने वाला करार दिया.

लल्ला बाबू ने अभी कोई धर्म अपनाने का एलान तो नही किया लेकिन उन्होंने जल्द ही नमाज पड़ने की बात कहकर सरकार को अपना इशारा दे दिया. वेस्ट यूपी में सहारनपुर, मेरठ और संभल में कई जगह अनुसूचित जाति के वर्ग को अन्य ऊंची जाति वर्ग के द्वारा प्रताड़ित करने के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. जिससे दलित समाज में योगी सरकार के खिलाफ आक्रोश बढ़ता जा रहा है. वहीं इस मसले पर स्थानीय भाजपाइयों ने चुप्पी साध रखी है और कोई भी इस मुद्दे पर बात करने को तैयार नहीं है.