लडको के लिए ब्लू और लडकियों के लिए क्यो है गुलाबी रंग

OMG!

अगर किसी बच्चे के लिए कपड़े खरीदने की बात होती है, तो हमको पता ही होता है कि अगर लड़का है, तो नीले रंग के कपड़े और अगर लड़की है तो गुलाबी रंग के कपड़े लेने चाहिए. यह बिलकुल आम प्रवृत्ति है कि हम में से ज्यादातर लोग लड़कों के लिए नीला और लड़की के लिए गुलाबी या उससे मिलते-जुलते किसी रंग की ही ड्रेस को प्राथमिकता देते हैं. लेकिन क्या आपने अभी इसके पीछे की असली वजह के बारे में सोचा है, जिसके आधार पर हमें यह आसानी हुई है और हमने अपने या बच्चों के लिए रंगों का बंटवारा कर लिया है. क्या कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों है?

जेंडर के हिसाब से कपड़ों के रंगों का चुनाव क्यों किया जाता है? शायद इसका जवाब आपके पास नहीं होगा, पर आज हम आपके लिए इसका सही जवाब लेकर आये हैं. इसका सबसे पहला तर्क यह है कि ऐसा माना जाता है कि लड़कियां नाज़ुक होती होती हैं और गुलाबी रंग को भी नाज़ुक चीज़ों की पहचान के रूप में देखा जाता है. ये भी माना जाता है कि गुलाबी आंखें, गुलाबी गाल या गुलाबी मिजाज ये सारी चीजें हमेशा से लड़कियों से जुड़ी होती हैं.

वहीं दूसरी तरफ अगर लड़के नीले या उससे मिलते-जुलते रंगों की तरफ आकर्षित होने होते हैं. इसकी बड़ी वजह यह है कि इस रंग को गंभीरता और औपचारिकता से जोड़ा गया है. जब किशोर से युवा हुआ पुरुष काम करने के लिए के लिए बाहर निकलता है, तो उसे प्रोफेशनल दिखना होता है. इसके लिए उनके पास सिर्फ सफ़ेद, नीला या उसके दूसरे शेड्ज़ ही होते हैं. एक वजह है जो पुरुषों के बीच इस रंग को लोकप्रिय बनाती है.