भूलने की बीमारी को कैसे दूर करें

Lifestyle

आजकल लोगो अक्सर किसी ना किसी बात का तनाव रहता है, जिसके कारण वे छोटी- छोटी बातो भूने लगते है, और भूलने की बीमारी का शिकार बन रहे हैं। अगर सही समय रहते इसका इलाज नहीं किया गया तो ये समस्या आगे चलकर एल्जाइमर जैसी भयंकर बीमारी का रूप ले सकती है। ऐसे में कुछ योग जो की आपके लिए मददगार हो सकते हैं।

भुजंगासन

इस आसन से याददाश्त तेज होने के साथ साथ कमर दर्द से जुड़ी सभी समस्याओं से भी निजात मिलती है। इसे योग को करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं और दोनों हाथों को कंधों के समांतर रखें। अब सांस लेना शुरू करें और हाथों पर बल लगाते हुए शरीर के आगे के भाग को जितना हो सके, ऊपर की ओर उठाएं। 30 सेकेंड तक इसी अवस्था में रहें और सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में आएं। हार्निया के मरीजों को ये आसन नहीं करना चाहिए।

सुखासन

सुखासन योग करने से तनाव से मुक्ति मिलती है, चीजें याद रखने में आसानी होती है और सुख का अहसास होता है। इसे करने के लिए सबसे पहले जमीन पर पालथी मारते हुए बैठ जाएं। अब एड़ी को जांघ के ऊपर चढ़ाएं और हाथों को घुटनों पर रखें। ध्यान रहे कि आपकी रीढ़ की हड्डी और कंधे एकदम सीधे होने चाहिए। छाती बाहर की तरफ रखें और हिप्स पर दबाव डालें। इसे करते समय नाक से ही सांस लेनी और छोड़नी चाहिए।

सर्वांगसन

सर्वांगसन करने से याददाश्तबढ़ने के साथ साथ मस्तिष्क में रक्त संचार भी अच्छे से होता है। इसे करने के लिए पीठ के बल लेटें और दोनों पैरों को साथ में रखें। इस दौरान हाथ कमर पर होने चाहिए। अब सांस अंदर की ओर लेते हुए पैरों को 30 डिग्री के कोण तक उठाएं, कुछ सेकेंड इसी अवस्था में रहें, अह 60 डिग्री तक और फिर 90 डिग्री तक उठाएं। सांस छोड़ते हुए दोनों पैरों को नीचे ले आएं और कुछ सेकेंड तक शवासन की स्थिति में लेटें। कमर और गर्दन के दर्द से पीड़ित लोगों को इसे करने से बचना चाहिए।

कपालभाति

इस आसन को करने से श्वास की गति सामान्य होती है और एकाग्रता बढ़ती है। इसे करने के लिए सबसे पहले सुखासन की स्थिति में बैठ जाएं, अब गहरी सांस लें और मुंह बंद कर तेजी से सांस बाहर निकालें। इस दौरान पेट की गति भी दिखनी चाहिए। 30 सेकेंड बाद पुरानी अवस्था में वापस आ जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *