बिना सिम के क्यों लग जाता है इमरजेंसी नंबर

ये बात तो आप जानते ही हैं कि हमारे फ़ोन से इमरजेंसी नंबर्स लग जाते हैं बिना सिम कार्ड के भी। हो सकता है कभी कभी आपने इसका इस्तेमाल भी किया हो। और लगा भी होगा नंबर। जब ज़रूरत लगी हो तो नंबर लग तो गया होगा लेकिन क्या कभी सोचा है बिना सिम के कैसे इमरजेंसी नंबर लग जाता है। नहीं जानते होंगे। तो आइये हम बताते है ये भी आपको। इस आपातकालीन नंबर के लिए ऐसी जगह पर होना चाहिए जहाँ नेटवर्क आता हो।

दरअसल, बिना SIM Card के आपातकालीन नंबर्स पर कॉल लगाना एक तकनीकी सुविधा है जिसे हर मोबाइल प्रोवाइडर देता है। आप दूसरे प्रकार के कॉल इसलिए नहीं कर सकते, क्योंकि उन्हें प्रोवाइडर द्वारा ब्लॉक किया जाता है। लेकिन वो आपातकालीन नंबर्स को ब्लॉक नही करते। जिनमे दुनिया भर के नंबर शामिल हैं। सरकार एक ऐसे नंबर को आपातकालीन नंबर बनाने की सोच रही है, जिसे किसी भी समस्या के दौरान मिलाया जा सके। क्योंकि अलग-अलग सेवाओं के लिए अलग-अलग आपातकालीन नंबर होने से किसी अलग समस्या के होने से वो नंबर यद् नही रहते।

इसलिए भारत अमेरिका की तर्ज पर (अमेरिका में सभी आपात सेवाओं के लिए ‘911’ नंबर है) ऐसी हेल्पलाइन सेवा शुरू कर सकती है, जिस पर किसी भी समस्या के लिए कभी भी फोन किया जा सके। इस पर ट्राई (TRAI) ने कहा कि पुलिस, आग लगने और एंबुलेंस सहित सभी महत्वपूर्ण आपात सेवाओं के लिए देशभर में एकल हेल्पलाइन नंबर 112 शुरू की जा सकता है। इसमें खास बात यह है, मोबाइल भले ही लॉक हो, उसमें सिम हो या ना हो, अगर सिम है और वह बंद हो चुकी है तो भी आप अपने मोबाइल से आपातकालीन नंबर्स मिला सकते हैं।

दरअसल, सिम कार्ड हमारे मोबाइल के नंबर्स और उपभोक्ता से जुड़ी जानकारी जुटाने का काम करता है। पर जब बिना सिम कार्ड के आपातकालीन नंबर्स को मिलाया जाता है, तो उसे इस प्रकार की जानकारी जुटाने की जरूरत नहीं होती और आप आसानी से बिना सिम के इमरजेंसी नंबर मिला पाते हैं।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.