खर्राटों से है परेशान तो अपनाएं यह टिप्स

खर्राटे आसपास सोने वालों की नींद तो खराब करते ही हैं, साथ ही यह खुद उस शख्स की सेहत के लिए भी समस्या हैं। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया नींद से संबंधित एक आम विकार है, जो बड़ी संख्या में लोगों को प्रभावित करता है। इससे निजात पाने के लिए व्यायाम और प्राणायाम तक कई प्रयास किए जा सकते हैं, मगर हाल ही में शोधकर्ताओं ने एक चुंबकीय कॉलर बनाया है जो सोते समय श्वसन तंत्र को व्यवधान मुक्त रखेगा।

विशेषज्ञों का कहना है मैगनैप नाम का यह कॉलर खर्राटों की समस्या का स्थायी इलाज हो सकता है। इसे गले के चारों ओर पहना जाता है। इसके अलावा एक चुंबकीय उपकरण को श्वासनलिका की घोड़े के आकार वाली हड्डी (हायोइड) में प्रतिरोपित किया जाता है। इसके साथ जब सोते समय चुंबकीय कॉलर पहन कर सोते हैं तो दोनों चुंबकों के प्रभाव से सांस लेने का मार्ग बाधित नहीं होता और सांसों की प्रक्रिया सामान्य रहती है।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया (ओएसए) के कारण सोते समय श्वासनलिका के ऊतक शिथिल होकर सिकुड़ जाते हैं, जिससे सांस लेने में व्यवधान होता है और खर्राटे आते हैं। सांस लेने की प्रक्रिया में छोटी-छोटी रुकावटों को एप्निया कहा जाता है, जो सोते समय कई बार होती हैं। कुछ बेहद गंभीर परिस्थिति में ओएसए के कारण लोगों में उच्च रक्तचाप, आघात या दिल के दौरे का खतरा बढ़ जाता है। दरअसल रक्त में ऑक्सीजन की आपूर्ति अचानक से कम होने के कारण हृदय के पूरे तंत्र पर अचानक दबाव बढ़ जाता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.