Facebook एड्स में आये कुछ बदलाव

Tech World

वैसे तो मैं उन लोगों में से एक हु जो टार्गेटेड एडवरटाइजिंग को बढ़ावा देते हैं, लेकिन इस बात में कुछ गलत नहीं है के Facebook एड्स कभी कभी थोड़े से.. अलौकिक हो सकते हैं। अब इसे अच्छा कहें या बुरा, लेकिन फेसबुक एड्स थोड़े स्मार्ट होने वाले हैं।

कंपनी ने गुरूवार को इस बात कि घोषणा की के मार्केटर्स अब किसी एक अकेले व्यक्ति की जगह पूरे हाउसहोल्ड को टारगेट कर सकेंगे। विचार है की हाउसहोल्ड मेंबर्स के बीच का रिलेशन पर्चेसिंग डिसिशन पर आवश्यक जानकारी देते हैं, और साथ ही ऑडियंस तक अपने बिज़नेस को पहुंचाने के नए तरीके भी बताते हैं। उदहारण के लिए:

परिवार एक साथ यात्रा करने के लिए जाते हैं, इसलिए यात्रा के विज्ञापनों का उद्देश्य एक घर के हर सदस्य को अपने विकल्पों का प्रयास करने और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए किया जा सकता है। अगर किसी घर में हर कोई एक ही यात्रा विज्ञापन देख रहा है, तो वे रात के खाने की मेज पर यात्रा करने के बारे में अधिक चर्चा कर सकते हैं।

छुट्टियों के मौसम के दौरान, माता-पिता अपने बच्चों द्वारा रुचि रखें जाने वाले उपहारों के बारे में विज्ञापन देख सकते हैं; वे पैसे वाले हैं, आखिरकार।

एक घर के लोग समान इंटरेस्ट रख सकते हैं, इसलिए हो सकता है मार्केटर्स को एक ही घर से बहुत से खरीदार मिल जाएं।

इसके विपरीत, कुछ उत्पाद ऐसे होते है जिनकी एक घर में केवल एक ही ज़रूरत होती है जैसे अगर आपके घर में कोई व्यक्ति पहले से ही सोनोस स्पीकर खरीदा चुका है तो विज्ञापन अन्य लोगों को लक्षित नहीं करेंगे क्योंकि लोग किसी एक घर के लिए एक से अधिक सोनो खरीदने की संभावना नहीं रखते हैं।

असल में, फेसबुक आपके बारे में क्या जानता है उसे आपके फॅमिली रिलेशन्स को समझने और आपको एक ग्रुप के तौर पर क्या खरीदना चाहिए है इसके लिए प्रभावित करने के लिए इस्तेमाल कर सकता है। ये फाइन-ट्यून्ड टार्गेटिंग अच्छी है अगर आप खुद एक ब्रांड है, लेकिन बहुत ही बेकार है अगर आप नहीं चाहते की टेक कंपनियां आपकी ज़िंदगी की सभी जानकारी रखें।

व्यक्तिगत रूप से, मैं लक्षित विज्ञापनों के साथ ठीक हूं – अगर मैं विज्ञापन देखने जा रहा हूं, तो मैं उन चीज़ों के बारे में बहुत कुछ जानता हूं जिनके बारे में मुझे दिलचस्पी हो सकती है, लेकिन हर किसी को ऐसा नहीं लगता। शुक्र है, आप फेसबुक की विज्ञापन अड़ प्रैफरेंसेज (सेटिंग> प्राइवेसी> एडवरटाइजिंग) में जा कर खुद को “मेंबर ऑफ़ ऐ फॅमिली बेस्ड हाउसहोल्ड” श्रेणी से निकालने का विकल्प चुन सकते हैं।

एक कम कंट्रोवर्सिअल न्यूज़ में, फेसबुक प्रोडक्ट एड्स के लिए वीडियो (जिन्हें डायनामिक एड्स कहा जाएगा) दिखाना भी शुरू करने वाला है। स्पष्टता के तौर पर, ये आपके द्वारा देखे जा रहे वायरल वीडियो के बीच में आने वाले विज्ञापन नहीं हैं, बल्कि ऐसे वीडियो कंटेंट है जो स्टिल इमेजेज को पहले से ही डायनामिक एड्स में सप्लीमेंट करता है। तर्क यह है कि वीडियो मोबाइल उपकरणों पर एक बहुत प्रभावी होते है, और आज पहले के मुकाबले बहुत अधिक लोग खरीदारी करने के लिए मोबाइल का उपयोग कर रहे हैं।

कंपनी डायनामिक विज्ञापनों के लिए ओवरले भी जोड़ रही है, जो डिस्काउंट और प्रोमोशंस जैसी अतिरिक्त जानकारी प्रदान कर सकते है।

नई विज्ञापन सुविधाएं अब यूएस के भीतर उपलब्ध हैं, और अगले वर्ष में “अन्य क्षेत्रों में आएगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *